अक्सर क्यों मांगा जाता है कैंसल्ड चेक, जानिए क्या है इसकी वजह और इससे जुड़े सभी सवाल और जवाब

आज कल देखा जाए तो ऑनलाइन ट्रांजैक्शन का प्रचलन काफी ज्यादा बढ़ गया है, लेकिन फिर भी बहुत से लोग चेक का इस्तेमाल बहुत कम कर रहे हैं। बता दें की इंश्योरेंस, म्यूचल फंड और अन्य कामों के लिए अकसर ही चेक का ही इस्तेमाल किया जा रहा है। आप खुद भी सोचते होंगे की डिजिटल हो रहे भारत में जब हर तरह का ट्रांजैक्शन ऑनलाइन हो सकता है फिर भी चेक आदि का इस्तेमाल क्यों किया जाता है और सबसे महत्वपूर्ण और ध्यान देने वाली बात तो ये हैं की इन सभी जगहों पर कैन्सल चेक का ही इस्तेमाल क्यों किया जाता है। असल में आपको बताते चलें की बहुत कम लोग ही इसके बारे में जानते हैं कि किस तरह से लिखने पर कैंसल्ड चेक मान्य होता है।

आपकी जानकारी के लिए बताते चलें की बैंकर्स के अनुसार कि चेक का प्रयोग किसी बैंक में अपना खाता होने को प्रमाणित करने के लिए भी किया जाता है। हालांकि इसके लिए चेक का लेन-देन सामान्य तरीके से नहीं किया जाता है, चेक को एक खास तरीके से कैंसल्ड चेक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। तो चलिये आज हम आपको कैंसल्ड चेक से संबन्धित कुछ महत्वपूर्ण जानकारी देते है और साथ ही साथ कुछ ऐसे सवालों के भी जवाब देते हैं जिन्हे लेकर अक्सर ही आपके मन में तमाम तरह की शंका आदि आती है।

हालांकि इस बात का ध्यान रखें कि कैंसल्ड चेक के जरिये कोई आपके अकाउंट से रकम नहीं निकाल सकता लेकिन अगर आप किसी व्यक्ति के सामने उसके दिए गए कलम से चेक को कैंसल करते हैं और उस पर साइन कर देते हैं तो वह इसका दुरूपयोग कर सकता है। सबसे पहला सवाल हर किसी के मन में आता होगा की कैंसल्ड चेक आजकल क्यों मांगा जाता है तो आपको बताते चलें की कैंसल्ड चेक देने का मतलब होता है कि आपने जिस बैंक का चेक दिया है, उसमें आपका खाता है। इस पर खाताधारक का नाम, ब्रांच का नाम और पता, खाता संख्या और एमआईसीआर नंबर होता है। इनके जरिए बैंक में आपके खाते की उपस्थिति सुनिश्चित होती है।

अब इसके बाद एक सवाल यह भी मन में आता है की आखिर किस तरह के चेक को कैंसल्ड चेक माना जाता है, इसके लिए आपको बता दें की किसी भी चेक को उस समय कैंसल्ड चेक कहा जाता है जब चेक पर दो समानांतर रेखाएं खिंची हों और उनके बीच में कैंसल्ड लिखा हो। कई लोग यहभी पूछते हैं की किन-किन चीजों के लिए कैंसल्ड चेक इस्तेमाल होता है तो इसके जवाब में आपको बता दें की आप जब भी कभी होन लोन, कार लोन, पर्सनल लोन इत्यादि लेते हैं तो बैंक आपसे एक कैंसल्ड चेक मांगता है। इसके अलावा इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते समय इंश्योरेंस कंपनी आपके कैंसल्ड चेक मांगता है। जब आप ऑफलाइन तरीके से पीएफ का पैसा निकालते हैं उस दौरान भी आपसे कैंसल्ड चेक मांगा जाता है, असल में इसके जरिए यह प्रमाणित किया जाता है कि फॉर्म में भरा गया बैंक एकाउंट आपका ही है ताकि भविष्य में ना आपको ना ही फ़र्म को किसी तरह की समस्या का सामना करना पड़े।