5 लाख का स्वास्थ्य बीमा में आप लाभार्थी हैं या नहीं, टॉल फ्री नंबर पर कॉल कर इस तरह करें पता

तत्कालीन सरकार भारतीय जनता पार्टी ने कुछ समय पहले विश्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना आयुष्मान भारत को भारतीय नागरिकों के लिए जारी की थी जिससे उन सभी गरीब और कमजोर वर्ग के लोगों को स्वास्थ्य सुविधा मिल पाये जो अच्छे और बेहतर इलाज ना मिल पाने से हमेशा वंचित रह जाया करते हैं। आपको बताते चलें की सरकार के अनुसार शुरू की गयी इस योजना के तहत तकरीबन दस करोड़ से भी ज्यादा परिवार के पचास करोड़ लोगों को लाभ होगा। इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको आधार कार्ड की जरूरत नहीं है, सरकार ने इसे अनिवार्य नहीं किया है, इसका प्रयोग वैकल्पिक तौर पर किया जा सकता है।

 

इस तरह चेक करें अपना नाम

हालांकि यह योजना शुरू हुए काफी समय हो चुका है मगर जानकरी के अभाव में बही तक बहुत से ऐसे लोग और परिवार हैं जो इस योजना का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। बताते छकें की आयुष्मान भारत योजना के निर्देशों में साफ साफ लिखा है कि इसके आवेदन करने के दौरान किसी भी तरह के पहचान पत्र की मान्यता है। अगर आपके पास आधार कार्ड नहीं है तो भी किसी भी पहचान पत्र के जरिए राज्य सरकार आपको इसका लाभ दे सकती है। सरकार की तरफ से शुरू किए गए इस योजना का मुख्य उदयेश यह है की देश को पूरी तरह से रोग मुक्त बना दिया जाए और हमारे भारत देश में कोई भी ऐसा नागरिक ना हो जो पैसे की वजह से बेहतर इलाह पाने से वंचित रहने पाये।

ऐसे में आप भी 5 लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज का लाभ लेने के लिए आयुष्मान भारत की वेबसाइट mera.pmjay.gov.in पर जाकर देखा सकते है या फिर आप इसके अलावा इसकी हेल्पलाइन नंबर 14555 पर भी कॉल कर के पता कर सकते हैं कि आपको इस योजना का लाभ मिल सकता है या नहीं। कोई भी व्यक्ति अपने मोबाइल नंबर या राशन कार्ड की सहायता से ये जांच कर सकता है की वह इस योजना के लाभ उठाने वाले लाभार्थियों की सूची में है कि नहीं। पहले आपको ओटीपी के जरिए वेरिफिकेशन करना होगा उसके बाद आपको ऑनलाइन केवाईसी की प्रक्रिया पूरी करनी होगी। आप हेल्पलाइन नंबर पर भी कॉल कर के जान सकते हैं कि आप इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

आयुष्मान मित्र करेंगे मदद

आपकी जानकारी के लिए यह भी बताते चलें की जिस जगहों पर पायलट प्रोजेक्ट की शुरुआत हो गई है वहां पर तकरीबन 14,000 आयुष्मान मित्रों को अस्पताल में तैनात किया गया है और मुख्य रूप से इनका काम मरीजों की पहचान का सत्यापन करने और उनके इलाज में मदद करना है। बताते चलें की जिन भी मरीजों को पूछताछ करना है या इस अत्यंत लाभकारी योजना से संबन्धित अभी भी किसी तरह की कोई शंका या समस्या आ रही हो या इससे संबन्धित कोई समाधान चाहिए तो वे भी इनसे संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :