1 अप्रैल से और भी स्मार्ट हो जाएगा आपका इलैक्ट्रिक मीटर, अब आपको ये फायदा भी मिलेगा

जीवन का नाम ही बदलाव है और पिछले कुछ वर्षों में हमारे समाज और हमारे देश में लगातार कई सारे बदलाव होते आ रहे हैं जिनमे से ज़्यादातर हम सभी देशवासियों के हिट में ही हुए है। ऐसे में आपकी जानकारी के लिए बताते चलें की एक बार फिर से कुछ जरूरी बदलाव होने जा रहे हैं, जी हाँ बता दें की 1 अप्रैल से आपकी जिंदगी में कई छोटे-बड़े बदलाव होने वाले हैं जिसके बारे मीन आपको भी जान लेना भूत ही आवश्यक है क्योंकि इससे आपको ये पता चल जाएगा की ये बदलाव आपक लिए कितने हितकारी हैं। तो चलिये जानते हैं 1 अप्रैल से देश में किस तरह के बदलाव होने जा रहे है और उनसे आपको कितना होने वाला है लाभ और कितना हो सकता है नुकसान।

सबसे पहले तो आपको बताते चलें की इस बदलाव का सब्बसे पहला हिस्सा होने वाला है आपके घर में लगा बिजली का मिटर जो की अब पहले से ज्यादा स्मार्ट हो जाएगा। असल में आपको बता दें की पिछले कुछ समय से सरकार की लगातार कोशिशों से ये संभव हो पाया है की आपको लगातार और बाधा रहित बिजली मिल सके और इसीलिए भारत में बिजली की चोरी रोकने के लिए कई प्रयास किए गए, लेकिन इसके बावजूद बिजली की चोरी कम नहीं हुई। काफी कोशिशों के बाद अब सरकार ने यह फैसला किया है की बिजली की चोरी रोकने के लिए 1 अप्रैल से प्रत्येक घर में प्रीपेड मीटर लगाना अनिवार्य कर दिया जाएगा। यानी की अब बिना मीटर को रिचार्ज कराए घर में बिजली की सप्लाई नहीं मिलेगी, ठीक उसी तरह से जैसे की हम अपने फोन को बिना रीचार्ज के इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं।

बताते चलें की सरकार की तरफ से ये लक्ष्य रखा गया है कि वर्ष 2022 तक पूरे देश में पूरे 24 घंटे हर किसी को निर्बाध तरीके से बिजली मिले जिसके लिए सरकार हर तरफ से प्रयत्न कर रही है और ये कदम भी उसी प्रयत्नों में से एक है। प्रत्येक घर में बिजली को केवल प्रीपेड मीटर के जरिए सप्लाई किया जाएगा, बिना प्रीपेड मीटर के बिजली जलाने पर जुर्माना लगाया जाएगा। हालांकि आपको यह भी बताते चलें की प्रीपेड मीटर के लाग्ने से आपको किसी तरह की कोई खास दिक्कत नहीं आएगी, जैसा की बताया गया है लोग आसानी से अपने मोबाइल फोन के जरिए ही अपने इस नए स्मार्ट बिजली मीटर को रिचार्ज कर सकेंगे।

इस मीटर के कई हैं फायदे

आपको यह बी बता दें की इस नए मिटर के लगने से और भी कई फायदे होंगे जिसमे सबसे पहले तो उपभोक्ताओं को बिल भेजे जाने की कवायद खत्म हो जाएगी जिसकी वजह से लगातार बिजली कंपनियों पर बढ़ रहे बकाये का भार बी खत्म हो जाएगा। इससे बिजली क्षेत्र में क्रांति आएगी, नुकसान कम होंगे और बिजली वितरण कंपनियों की स्थिति सुधरेगी। फिलहाल सबसे सस्ता सिंगल फेज प्रीपेड बिजली मीटर अभी 8 हजार रुपये का मिल रहा है, हालांकि अच्छी गुणवत्ता वाला मीटर खरीदने के लिए लोगों को 25 हजार रुपये खर्च करने पड़ेंगे, मगर जो भी कहिए ये व्यसथा फिलहाल सुनने में तो काफी अच्छी लग रही मगर अब देखना ये है की ये कितना सफल होती है।