बार बार होने वाले मुहं में छाले से आप भी हैं परेशान तो जान लीजिये इसका इलाज

मुंह के छाले जिसे हम माउथ अलसर भी कहते हैं ये एक सामान्य रोग है जिसमें रोगी के मुँह के अन्दर जीभ और गालों की आतंरिक दीवारों पर छोटी छोटी फुंसी जैसे हो जातीं हैं। ऐसा भी बताया जाता है की जब भी कभी हमारे शरीर में गर्मी का प्रभाव ज्यादा हो जाता है तो इसका असर अक्सर मुंह के भीतर, जीभ, होठों तथा भीतरी गालों पर पड़ता है और परिणाम स्वरूप छाले हो जाते हैं। इनसे रोगी को बहुत कष्ट उठाना पड़ता है। कई बार छालों का कष्ट इतना ज्यादा हो जाता है कि भोजन या पानी तक निगलना भी कष्टप्रद हो जाता है। ऐसे रोगी कोई भी नमकीन या मिर्च मशालेदार खाद्य पदार्थ का सेवन नहीं कर पाता, यदि वो मिर्ची युक्त भोजन का सेवन करता है तो उसे बहुत ज्यादा मिर्ची लग जाती है जिसकी वजह से मुँह से कभी कभी लार भी टपकने लगती है। बता दें की अगर आप भी इस तरह की समस्या से काफी ज्यादा परेशान हैं तो ऐसे में आज हम आपको चले होने के कारण और इसके साथ ही साथ कुछ आसान से घरेलू तरीके बताने जा रहे हैं जो छालों को ठीक करने में बेहद कारगर साबित होंगे।

मुहं में छाले होने के कारण

कई कारणों से हमारे मुह में छाला होते है, इसका कई कारण हो सकते है, जैसे –

मसालेदार भोजन के अधिक सेवन करने से।
समय बचाने के उपक्रम में जल्दी जल्दी खाने से।
vitamin – B complex की कमी से।
खाने के समय अगर हमारे दांतों से मुह के भीतरी भाग को चबा जाने से

मुह के छाले का उपचार

1. टमाटर का रस एक गिलास पानी में मिलाकर कुल्ले करने से छाले मिट जाते हैं।

2. एलोवेरा के इस्तेमाल से प्रभावित जगह की जलन कम हो जाती है, साथ ही एलोवेरा में मौजूद रासायनिक पदार्थ जख्म को जल्दी भरने का काम करते हैं।

3. सूखा खोपरा खूब चबा-चबाकर खाएं, चबाने के बाद पेस्ट जैसा बनाकर मुंह में ही कुछ देर रखें, फिर पूरा खा ले। ऐसा दिन में तीन-चार बार करें, छाले दो दिन में दूर हो जाएंगे।

4. छालों पर ठंडी चीज लगाने से बहुत जल्दी फायदा होता है. साथ ही ये दर्द और सूजन को भी कम करने का कम करता है।

5. मुंह के छाले या जुबान पर छाले होने के लिए शरीर में बढ़ने वाली गर्मी जिम्मेदार होती है। ऐसे में कोशि‍श करें कि दिनभर में हर थोड़ी-थोड़ी देर में पानी पीते रहें, ताकि शरीर का तापमान नियंत्रित रहे।

6. नीम के पत्ते उबाल लें। इसमें लहसुन के रस की चार-पांच बूंद डालकर इससे गरारे करने चाहिए।

7. हल्दी सदियों से उपचार के इलाज में इस्तेमाल किया जा रहा है। हल्दी का आयुर्वेद में तो हजारो सालो से इसका फलदायी उपयोग हो रहा है।

8. शहद के साथ इल्लैची के powder को मिलकर उसका paste को छाले वाले जगह पर लगाने से छाला कम हो जाता है।

यह भी पढ़ें :