वास्तु के अनुसार घर की इस दिशा में भूलकर भी ना रखे गणेशजी, होता हैं बड़ा अपशगुन

दोस्तों जब भी किसी काम की शुरुआत होती हैं तो सबसे पहले गणेशजी को ही पूजा जाता हैं. ऐसा कहा जाता हैं की किसी भी काम को स्टार्ट करने से उर्व गणेशजी का नाम लेना शुभ होता हैं. गणेशजी को हम भाग्य विधाता के नाम से भी जानते हैं. इसलिए यदि काम की शुरुआत में गणेश जी को प्रसन्न कर दिया जाए तो आके सभी काम बिना किसी परेशानी के संपन्न हो जाते हैं. ऐसा इसलिए की आप गणेशजी से आशीर्वाद के रूप में प्रबल भाग्य मिल जाता हैं. फिर एक बार जिसकी किस्मत अच्छी होती हैं उसके पास मुसीबत भटकती भी नहीं हैं. फिर जिसे गणेश जी का आशीर्वाद मिल जाए उसकी तो चांदी ही चांदी हो जाती हैं.

ऐसे में आज हम आपको गणेश जी के सम्बन्ध में एक बहुत ही ख़ास बात बताने जा रहे हैं. लगभग सभी हिंदुओं के घर पूजा पाठ करने के लिए गणेश जी की प्रतिमा अवश्य होती हैं. लेकिन क्या आ जानते हैं की गणेश जी को यदि गलत दिशा में रख दिया जाए और फिर उनकी पूजा की जाए तो उस पूजा के कोई मायने नहीं निकलते हैं. कुछ लोग इसे अपशगुन भी मानते हैं. ऐसे में घर के अंदर गणेश जी को सही दिशा में रखना बेहद जरूरी हो जाता हैं.

इस दिशा में ना रखे गणेश जी

दोस्तों वास्तु की माने तो घर की दक्षिण दिशा में भूलकर भी गणेशजी को नहीं रखना चाहिए. ऐसा कहा जाता हैं की इस दिशा में सबसे अधिक नकारात्मक उर्जा होती हैं. ऐसे में इस नेगेटिव माहोल में गणेश जी की पूजा पाठ कभी नहीं की जाती हैं. गणेश जी को हमेशा पॉजिटिव वातावरण पसंद होता हैं. बस यही वजह हैं की हमें घर के अंदर कभी भी दक्षिण दिशा में गणेश जी विराजित नहीं करने चाहिए.

इस दिशा में गणेश जी को रखना होता हैं शुभ

अब आपके मन में ये प्रश्न भी उठ रहा होगा की आखिर किस दिशा में गणेश जी को रखना शुभ होता हैं. तो चलिए हम आपको ये टिप भी दे देते हैं. वास्तु की माने तो घर में गणेश जी को इस प्रकार रखना चाहिए की उनका मुख पूर्व दिशा में हो. ऐसा इसलिए की पूर्व दिशा में सूर्यदेव के उदय होने की वजह से सबसे अधिक सकारात्मक उर्जा होती हैं. इससे पॉजिटिव माहोल में गणेश जी जल्दी प्रसन्न होते हैं. यदि आप किसी कारणवश पूर्व दिशा में गणेशजी की प्रतिमा ना रख सके तो फिर पश्चिम दिशा में उनका मुख कर के भी रख सकते हैं. क्योंकि सूरज पूर्व से पश्चिम की और जाता हैं तो दोनों ही दिशाओं में सकारात्मक उर्जा का लेवल अधिक होता हैं.

इस बात का भी रखे ध्यान

गणेश जी से सम्बंधित एक और बात याद रखे की आप कभी भी एक कमरे के अंदर दो से ज्यादा गणेश जी ना रखे. घर में एक ही कमरे में तीन या उससे अधिक गणेश जी का होना भी शुभ नहीं माना जाता हैं.

दोस्तों यदि आपको ये जानकारी पसंद आई तो इसे दूसरों के साथ भी जरूर शेयर करे ताकि वे भी इसका लाभ ले सके.