पाक एक्ट्रेस का चौकाने वाला बयान – अभिनंदन के शरीर में लगी हैं जासूसी चीप

दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं 1 मार्च को विंग कमांडर अभिनंदन भारत लौट आए थे. उनके स्वागत के लिए कई हजार लोग वाघा बोर्डर पर खड़े थे. अभिनंदन के आने के बाद पुरे देश में जैसे खुशियों की लहर दौड़ गई थी. पाकिस्तान की कैद से आजाद होने के बाद अभिनंदन को भारतीय वायु सेना वाले अपने साथ ले गए. यहाँ उनका मेडिकल टेस्ट सहित और भी कई जांचे होगी. ऐसा बताया जा रहा हैं कि अभिंन्दन अभी एक महीने तक घर नहीं जा पाएंगे और दो महीने तक प्लेन भी नहीं उड़ा पाएंगे.

इस बीच पाकिस्तान की अभिनेत्री वीणा मालिक का अभिनंदन को लेकर बड़ा ही चौकाने वाला बयान सामने आया हैं. दरअसल वीणा ने ये दावा किया हैं कि पाकिस्तानी सेना ने अभिनंदन के शरीर में एक चीप लगाईं हैं. इस तरह वे पाकिस्तान के जासूस बन गए हैं और भारत में रह रहे हैं. अपने इस दावे के साथ वीणा ने एक तस्वीर भी शेयर की हैं जिसमे विंग कमांडर अभिनंदन एक बेड पर लेते हुए हैं और उनके पीछे पाक के दो सैनिक और डॉक्टर दिखाई दे रहे हैं. तस्वीर में अभिंदन मुस्कुरा भी रहे हैं.

इस तस्वीर को देख ये लगता हैं कि पाक सेना अभिनंदन का मेडिकल ट्रीटमेंट करवा रही हैं लेकिन वीणा मालिक का ये दावा हैं कि वो उनकी बॉडी में कोई जासूसी चीप डाल रही हैं. हालाँकि वीणा के इस दावे में रद्दी भर भी सच्चाई नहीं हैं. क्योंकि जब अभिनंदन भारत वापस लौटे थे तो उनका मेडिकल ट्रीटमेंट और टेस्ट किया गया था. इसमें ये जांच भी हुई थी कि कहीं दुश्मन ने अभिंनदन के शरीर में कोई उपकरण जैसे चीप वगैरह तो नहीं लगाया हैं. भारतीय वायु सेना को उनकी बॉडी में ऐसा कुछ नहीं दिखाई दिया. वे क्लीन पाए गए. ऐसे में वीणा का ये दावा फ़ालतू लगता हैं.

वैसे बता दे कि वीणा अक्सर इस तारः के भड़काने वाले बयान देने के लिए बदनाम हैं. उनकी इस आदत के चलते कोई भी उन्हें सीरियस नहीं लेता हैं. सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि पाकिस्तान में भी उनका काफी मजाक उड़ाया जाता हैं. कुछ लोग तो उन्हें पाकिस्तान की राखी सावंत भी कहते हैं. जो बिना सोचे समझे कुछ भी बोलती रहती हैं.

वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दे कि भारतीय सेना के मनको के अनुसार जब भी कोई सैनिक दुश्मन की कैद से आज़ाद होकर भारत आता हैं तो सबसे पहले उसका पूर्ण मेडिकल चेकअप होता हैं. इसमें यह देखा जाता हैं कि दुश्मन ने उस शख्स के अन्दर कोई जासूसी उपकरण तो नहीं छिपाया हैं. साथ ही इस बात की भी जांच होती हैं कि उनके शरीर में कोई ऐसा केमिकल तो नहीं डाला गया हैं जो आगे चलकर उनकी सेहत को नुकसान पहुंचा सके. दरअसल जिनेवा संधि के तहत कोई भी देश दुसरे देश के पकड़े गए कैदी के साथ कुछ गलत नहीं कर सकता हैं. फिर अभिनंदन के केस में तो वे जंगी कैदी भी नहीं थे बल्कि अपने वतन की हिफाजत करते हुए दुश्मन के इलाके में जा गिरे थे. यही वजह थी कि पाकिस्तान को उन्हें वापस भेजना ही था.