अभी-अभी : सामने आई अभिनंदन की बॉडी टेस्ट की रिपोर्ट जाने ,क्या उनके शरीर में लगायी गयी है चिप

इंडियन एयरफोर्स के विंग कमांडर अभिनंदन पाक से छूटकर तो आ गए हैं लेकिन अभी वे अपने घर नहीं जा सकेंगे। उन्हें सेना के आरआर अस्पताल में रखा गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, वे डीबगिंग की प्रॉसेस से गुजर चुके हैं। इसमें यह पता लगाया गया कि कहीं दुश्मनों ने उनकी बॉडी में कोई जासूसी उपकरण तो फिट नहीं किया। यह मेडिकल जांच काफी तकलीफ देने वाली होती है। हॉस्पिटल से हरी झंडी मिलने के बाद ही उन्हें आईएएफ की मेस में भेजा जाएगा।

जांच के बाद ही मिल सके परिजनों से :

अभिनंदन को एक महीने तक वायुसेना की मेस में ही रहना होगा। इस दौरान उनसे कड़ी पूछताछ भी की जाएगी। जब तक वे यहां रहेंगे, तब तक परिजन कुछ ही घंटों के लिए उनसे मुलाकात कर सकेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इंडियन एयरफोर्स के नियमों के तहत अभिनंदन को सभी जांचों से गुजरना जरूरी है। अभी तक की जांच में उनकी बॉडी की डीबगिंग की गई है। उनसे सेन्य अधिकारियों द्वारा पूछताछ भी की जा रही है कि आखिर उनके साथ पाकिस्तान में कैसा बर्ताव किया गया।

फिलहाज न्यूज एजेंसी के ANI के मुताबिक अभिनंदन की स्वास्थ्य जांच को लेकर जानकारी सामने आयी है। बताया जा रहा है कि विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान के एमआरआई स्कैन के दौरान डॉक्टर को कोई छिपी हुई चिप नहीं मिली है।इसके बाद ही अभिनंदन को अपने परिजनों और डिफेंस मिनिस्टर से मिलने की अनुमति दी गई थी। अभी वे डीब्रिफिंग की प्रक्रिया से गुजर रहे हैं। इसमें उनसे पाकिस्तान में बिताए 60 घंटों को लेकर पल-पल की जानकारी पूछी जा रही है।

कौन सी एजेंसिया करती हैं पूछताछ :

सेना के नियमों के तहत युद्धबंधियों से सैन्य खुफिया शाखा के साथ ही रॉ, एनआइए और आईबी अधिकारियों द्वारा पूछताछ की जाती है। एजेंसिया पाकिस्तान से जुड़ी एक-एक डिटेल के बारे मे बारीकी से पूछती हैं और उनका विश्लेषण करती हैं।

जानिए क्या होती है डीब्रिफिंग में

यह एक तरह का काउंसलिंग सेशन होता है। इसमें संबंधित व्यक्ति की साइकोलॉजिकल थिंकिंग और दिमाग की अवस्था जांची जाती है यह पता किया जाता है कि घटना का कैसा असर, उनके दिमाग पर पड़ा है। IAF के साथ ही इंटेलीजेंस एजेंसी इस सेशन में शामिल होती हैं। इसमें इनफॉर्मल चैट भी होती है। जिसमें बीते दिनों में हुए घटनाक्रम की पूरी जानकारी ली जाती है। इसमें ये भी जांचा जाता है कि कहीं संबंधित व्यक्ति दुश्मन के प्रभाव में तो नहीं आ गया। हालांकि अभिनंदन के केस में यह दिक्कत नहीं है क्योंकि उन्होंने सिर्फ 60 घंटे ही पाक में बिताए ये भी पूछा जाएगा कि पाकिस्तान में उनसे किस तरह जानकारी ली गई। जिस जगह रुके थे, वहां की भी पूरी जानकारी ली जाएगी।

सूत्रों के मुताबिक, विंग कमांडर की एक रिब में भी चोट है।।पाकिस्तान ग्रामीणों द्वारा की गयी मारपीट के कारण उनकी रिब में चोट आई है। इजेक्ट होने के बाद पाक-अधिकृत कश्मीर के एक गांव में भीड़ ने अभिनंदन के साथ मारपीट की थी। विंग कमांडर अभिन्दन का आरआर अस्पताल में इलाज चल रहा है और उनका चेकअप होना बाकी है।

इससे पहले शनिवार को पूछताछ के दौरान अभिनंदन ने कहा ता कि उन्हें पाकिस्तानी सेना द्वारा शारीरिक तौर पर तो परेशान नहीं किया, लेकिन मानसिक तौर पर लगातार परेशान किया। फिलहाल अधिकारी पूछताछ में लगे हैं। शनिवार सुबह रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी सेना अस्पताल में अभिनंदन से मुलाकात की। मुलाकात के बाद रक्षा मंत्री ने कहा कि विंग कमांडर बिल्कुल फिट हैं।