इमरान खान ने गलती से खोला राज़, अभिनंदन की रिहाई के एक दिन पहले मिसाईल छोड़ने वाला था भारत

1 मार्च 2019 को रात 9 बजकर 21 मिनट पर देश के शेर और वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन भारत लौट आए. उनके इंतज़ार में कल सुबह से ही हजारों लोग अटारी वाघा बॉर्डर पर जमा होने लगे थे. कोई हाथ में तिरंगा लेकर आ रहा था तो कोई ढोल और अभिनंदन के पोस्टर लिए हुए था. अभिनंदन को आने में सुबह से रात हो गई लेकिन फिर भी लोग वहां पुरे जोश के साथ डटे रहे. इसके बाद जैसे ही अभिनंदन आए तो पूरा देश ख़ुशी से झूम उठा. गौरतलब हैं कि 27 फरवरी को अभिनंदन अपने मिग 21 विमान से पकिस्तान के F16 फाइटर जेट को खदेड़ते हुए पाक सीमा में दाखिल हो गए थे. यहाँ उनके प्लेन के क्रेश होने के बाद पाकिस्तानी सेना ने उन्हें हिरासत में ले लिया था. इसके ठीक अगले दिन ही यानी 28 फरवरी को पीएम इमरान खान ने संसद में ये एलान किया था कि वो कल (1 मार्च) अभिनंदन को शांति सन्देश के रूप में भारत भेज रहे हैं. लेकिन जब इमरान संसद में ये एलान कर रह थे तो वहां उन्होंने गलती से एक ऐसी बात बोल दी थी जिसने पुरे विश्व को चौका दिया था.

हुआ ये कि गुरुवार के दिन संसद में पीएम इमरान ने एक ऐसा दावा कर दिया जिसे सुन हर कोई हिल गया. उन्होंने कहा कि “बुधवार रात ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो पाकिस्तान के ऊपर कोई मिसाईल अटैक होने वाला हैं.” अब इमरान ने जाने अंजाने में ये बात संसद में कह तो दी लेकिन उनकी इस बात के कई सारे अलग अलग मतलब निकाले जा रहे हैं. इमरान के अनुसार उन्होंने अभिनंदन को भारत एक शांति के सन्देश के रूप में भेजा हैं. लेकिन ये अंदाजा भी लगाया जा रहा हैं कि इसके पीछे की असली वजह पकिस्तान का भारत से डर हो सकता हैं.

इमरान ने शांति और अमन की बात करते हुए कहा था कि हम जंग नहीं चाहते हैं. जंग से किसी को कोई फायदा नहीं होता हैं. इसमें केवल नुकसान ही होता हैं. लेकिन इए भारत हमारी कमजोरी ना समझे. मैं बता दू कि हमारी सेना हर तरह की स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं. गुरुवार को पाक में मिसाईल अटैक होने वाला था लेकिन बाद में उसे डिफ्यूज कर दिया गया. आप ये बात समझ ले कि यदि भारत कोई कदम उठता हैं तो पाकिस्तान भी उसका जवाब देगा. दोनों ही देशो के पास न्यूक्लियर हथियार हैं जिसका वक़्त पड़ने पर उपयोग किया जा सकता हैं.

इमरान के संसद में इस बयान के बाद कई लोगो के मन में तरह तरह के सवाल पैदा हो रहे हैं. जैसे क्या इमरान खान को भारत या मोदी की ओर से किसी तरह की कोई धमकी दी गई थी? क्या उन्होंने इंडिया से खौफ खाकर ही अभिनंदन को तुरंत रिहा करने का फैसला लिया था? या फिर भारत से मिसाईल अटैक का डर दिखाकर वो कोई विश्व स्तर की राजनीती कर रहा हैं?

वैसे आपका इस पुरे मसले पर क्या कहना हैं? आखिर वो क्या वजह रही होगी जो पाकिस्तान अभिनंदन को छोड़ने के लिए राज़ी हो गया? अपने जवाब कमेंट में जरूर दे.