अभिनंदन की हो रही भारत में वापसी लेकिन, माता पिता से मिलने के पहले गुजरना होगा इन 2 परीक्षाओं से

भारत और पाकिस्तान में तनाव के बीच देश को बड़ी जीत मिली है। आखिरकार पाकिस्तान को भारत के आगे घुटने टेकने पड़े। शुक्रवार को इंडियन एयरफोर्स के विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तान रिहा करेगा। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को सिर्फ 24 घंटे में एलान करना पड़ा कि वो भारतीय पायलट अभिनंदन को आज रिहा कर रहे हैं। पाकिस्तानी लड़ाकू विमान एफ16 (F-16) को मार गिराने के बाद अभिनंदन का फाइटर प्लेन मिग भी क्रैश हो गया था।

इसके बाद अभिनंदन का पैराशूट पीओके में पहुंच गए थे जहां पाकिस्तानी सेना ने उन्हें कब्जे में ले लिया लेकिन भारत ने दो टूक कहा कि हमें हमारा पायलट सुरक्षित और बिना किसी शर्त के वापस चाहिए। भारत और अंतर्राष्ट्रीय दवाब में कल पाकिस्तान की संसद में इमरान खान ने कहा कि वो अभिनंदन को छोड़ रहे हैं। आज वाघा बॉर्डर के जरिए अभिनंदन वतन वापस लौट रहे हैं। वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी ट्वीट करके कहा था कि अगर वे वाघा बॉर्डर पर कमांडर अभिनंदन वर्तमान को रिसीव करेंगे, तो ये उनके लिए सम्मान की बात होगी।

गौरतलब है की विंग कमांडर अभिनंदन को आज लाहौर लाया जाएगा लेकिन आपको बता दे की अभिनंदन के भारत आने से पहले कई प्रक्रिया शामिल की जाएँगी और उन सभी प्रकिया में पास होने के बाद ही अभिनंदन को भारत में उनके माता पिता से मिलने की अनुमति दी जाएगी | अब आप ये  जान लीजिए कि विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तान से भारत वापस लाने में कौन सी प्रक्रिया अपनाई जाएगी. जानिए ये जरूरी बातें-

1.सबसे पहली प्रकिया पूरी करेगी  रेड क्रॉस (आईसीआरसी) :

अभिनंदन को वापिस लाने की प्रक्रिया में सबसे पहली बात ये है कि अभिनंदन को अमृतसर के वाघा-अटारी बॉर्डर पर जॉइंट चेक पोस्ट के रास्ते भारत वापस लाया जाएगा. अभिनंदन को रावलपिंडी में उनके आर्मी हेडक्वार्टर में रखा गया है और उन्हें रावलपिंडी से लाहौर लाया जाएगा जहां उन्हें जेनेवा कन्वेंशन 1949 के तहत इंटरनेशनल कमिटी ऑफ रेड क्रॉस (आईसीआरसी) को सौंपा जाएगा

.

ये वो स्वतंत्र संगठन है जो जेनेवा कन्वेंशन के अंडर युद्ध और हिंसक टकरावों के पीड़ितों के हितों के लिए काम करती है और ये संगठन अभिनंदन की पूरी जाँच करेगी की इन्हें किसी तरह की शारीरिक चोट तो नहीं आई है साथ ही ये यह भी जाँच करेंगे की किसी तरह का ड्रग्स तो नहीं दिया गया है और इसके बाद अभिनंदन से कुछ सवाल पूछे जायेंगे जिसमे ये बात जानी जाएगी की उन्हें किसी तरह की शारीरिक या मानसिक पीड़ा तो नहीं दिया गया है | सूत्रों के मुताबिक कोई व्यक्ति दूसरे देश में पकड़ा जाता है उस पर जिनेवा समझौता लागू होता है. अगर पाकिस्तान इस समझौते का पालन नहीं करता है तो उसे इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में मुंह की खानी पड़ेगी.

2.भारत आने के बाद फिर से की जाएगी ये जाँच

रिपोर्ट के मुताबिक अभिनंदन को रेड क्रॉस (आईसीआरसी) की जाँच पूरी होने के बाद उन्हें भारत को सौंप दिया जायेगा और फिर उन्हें भारतीय वायु सेना की टीम मेडिकल जाँच के लिए भेजेगी  जिसमे इंटेलिजेंस भी उनसे कुछ सवाल करेगी और ये पूछा जायेगा की पाकिस्तान ने उन्हें किसी तरह से प्रताड़ित तो नहीं किया है और इन सबके बाद जो रिपोर्ट तैयार होगी वो सौंपी जाएगी भारत सरकार के पास और तब विंग कमांडर अभिनंदन को अपने माता पिता से मिलने की अनुमति प्रदान की जाएगी |

पीएम मोदी की बड़ी जीत बताई

विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई को कूटनीतिक स्तर पर पीएम मोदी की बड़ी जीत बताई जा रही है। दरअसल जैसे ही बुधवार को विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान के कब्जे में गया सराकार ने उनकी रिहाई को लेकर कोशिशें तेज़ कर दी। सूत्रों के मुताबिक पीएम ने उन्हें सुरक्षित भारत लाने का जिम्मा राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल को सौंप दिया। इसके बाद डोभाल ने शाम को पाकिस्तान पर दबाव बनाने के लिए खास रणनीति तैयार की। इसके तहत उन्होंने कई अंतराष्ट्रीय साझेदारों से बातचीत की। सूत्रों के मुताबिक डोबाल ने अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो से करीब 25 मिनट तक बातचीत की।