भारतीय सैनिकों के लिए रतन टाटा ने बनाई एक दमदार गाड़ी जिसपर नहीं होगा माइन्स बम और रॉकेट का भी असर

रतन टाटा एक प्रसिद्ध भारतीय उद्योगपति और टाटा संस के सेवामुक्त चेयरमैन हैं। वे सन 1991 से लेकर 2012 तक टाटा ग्रुप के अध्यक्ष रहे। 28 दिसंबर 2012 को उन्होंने टाटा ग्रुप के अध्यक्ष पद को छोड़ दिया परन्तु वे अभी भी टाटा समूह के चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष बने हुए हैं। वह टाटा ग्रुप के सभी प्रमुख कम्पनियों जैसे टाटा स्टील, टाटा मोटर्स, टाटा पावर, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, टाटा टी, टाटा केमिकल्स, इंडियन होटल्स और टाटा टेलीसर्विसेज के भी अध्यक्ष थे। उनके नेतृत्व में टाटा ग्रुप ने नई  ऊंचाइयों छुआ और समूह का राजस्व भी कई गुना बढ़ा।

गौरतलब है की इंडियन डिफेंस में व्हीकल्स के जरूरतों को पूरा करने के लिए टाटा मोटर्स एक बड़ी सप्लायर कंपनी है। हम आपकी जानकारी के लिए बता दे के भारतीय आर्म्ड फोर्स को लड़ाकू हथियारों से लैस गाड़ियां मुहैया कराने का कॉन्ट्रैक्ट टाटा मोटर्स ने हासिल किया है। टाटा ने इसके पहले डिफेन्स को टाटा सफारी सटॉर्म की सप्लाई की थी जिसे अब उनके द्वारा रिप्लेस किया जा रहा है। टाटा के द्वारा बनाई गयी जिस गाड़ी को सेना में शामिल किया जाना है उसका नाम merlin है और हम आपको बता दे के इसे इसकी टेस्टिंग के वक्त मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे पर स्पॉट किया गया।

उच्च तकनीक से होगी लैस

टाटा द्वारा डिज़ाइंड यह गाडी पहले लुक में किसी मॉनस्टर कार से कम नहीं लग रही है। अधिक जानकारियों के लिए आप टाटा की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर भी डिटेल्स जान सकते हैं। खबरों की माने तो इनके अनुसार खास तौर पर इस गाड़ी को सेना के लिए बनाया गया है| फीचर्स की बात करे तो इसके साइड और रियर में STANAG 4569 लेवल-1 की प्रोटेक्शन से लैस रखा गया है और साथ ही इसे नॉटो स्टैंडर्ड की उच्च स्तरीय सुरक्षा भी दी गई है। जानकारी के लिए बता दे के आर्टिलरी, ग्रेनेड और माइन ब्लास्ट का असर न होने के लिए गाड़ियों में लेवल 1 प्रोटेक्शन दी जाती है| यह आने बॉडी पर आने वाली काइनेटिक एनर्जी को एब्जॉर्ब करती है और इसके जरिये उसमें सवार लोगों को सुरक्षित भी रखती हैं।

ऑटोमेटिक ग्रेनेड लॉन्चर इस्टॉल करने का होगा ऑप्शन

टाटा ने अपने इस आर्मी व्हीकल की कॉमन रेल टर्बो डीजल इंजन से भी लैस रखा है जीमे आटोमेटिक गियर-शिफ्ट और ट्रांसमिशन होगा| इसमें Class-X का ट्रिपल सस्पेंशन लगा है जो के लगने वाले झटकों से बचाएगा| और इसका इंजन अधिकतम 185 Bhp और 450 न्यूटन मीटर का टॉर्क भी जनरेट करने में सक्षम होगा। इन सब के साथ ही इसमें 4×4 का ड्राइविंग सिस्टम होगा, जो आपात स्थिति में काफी हद तक कारगर साबित होगा और साथ ही इस गाड़ी के टायर में किसी भी बाहरी सोर्स के हवा भरी जा सकेगी।

अगर बात करे इसके आउटर पार्ट की तो इस गाड़ी की छत पर 7.6 एमएम की मशीन गन और 40 एमएच की ऑटोमेटिक ग्रेनेड लॉन्चर भी इनस्टॉल की गयी है जिसको ऑपरेट करने का अंदर से ही आप्शन दिया गया है| इन सब के साथ ही इसमें एंटी टैंक मिसाइल भी इंस्टॉल होगी जिसकी मदद से आस-पास से होने वाले किसी टैंक हमले से बचा जा सकेगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दे के टाटा भारत को काफी वक्त से आर्म्ड व्हीकल उपलब्ध करा रहा है। और सिर्फ इतना ही नही बल्कि साथ ही विश्व के कई अन्य देशों को भी डिफेंस व्हीकल सप्लाई करता आ रहा है है।