कब और किसके साथ नहीं करना चाहिए दही का इस्तेमाल, जानिए 7 जरूरी बातें

इस बात से तो हम सभी वाकिफ है के हमारे शरीर को कई सारे पोषक तत्वों की जरूरत होती है| इन्ही में से एक है कैल्शियम जिसकी आपूर्ति से शरीर में हड्डियों से जुड़ी कई सारी परेशानियां होने लगती हैं| और अगर हम बात करे दूध की तो इसमें भरपूर मात्र में कैल्शियम होता है| सिर्फ दूध ही नही बल्कि दूध से बनी कई और सारी चीज़ों जैसे घी, छाछ और दही भी कैल्शियम का अच्छा साधन होती हैं|

अगर बात करे दही की तो हम सभी ने धी का सेवन किया है और इसे खाना सुंदरता के लिए फायदेमंद है ही इसके साथ जाने कितने स्वास्थ्य से जुड़े फायदे हैं इसके। लेकिन आज हम आपको इन फायदों के बारे में नही बल्कि कुछ ऐसे हालातों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनमे अगर आप दही का सेवन करते हैं तो यह आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकती है|

तो चलिए हम आपको बताते हैं उन परिस्थितियों के बारे में जिनमे आपको दही का इस्तेमाल नही करना चाहिए:

सर्दियों में –

सर्दी के दिनों में दही का इस्तेमाल करना आपकी सेहत को काफी नुकसान पहुंचा सकता है| इसकी सबसे बड़ी वजह है तापमान का कम होना। बता दे के ठंडे के मौसम में अगर आप कम तापमान की चीजें खाते हैं तो ऐसे में आपकी सेहत बिगड़ सकती है|

बासी दही –

बता दे के दही का उपयोग जब तक वह ताजा  है तब तक ही हमे कर लेना चाहिए| जैसे ही दही का स्वाद अधिक खट्टा होने लगे इसके बाद ही इसका सेवन करना हमे बंद कर देना चाहिए| क्योंकि अगर आप खट्टा और बासी दही खाते हैं तो ये शरीर में सूजन का कारण भी बन सकता है।

रात में –

दही का सेवन रात में करना कभी भी उचित नहीं है। ऐसे में इसकी दो बड़ी वजहें है, पहला तो इसका पाचन देर तक होता है और रात को खाने से पाचन तन्त्र प्रभावित होता है| और साथ ही दूसरा कारण रात का कम तापमान होता है जिससे दही आपके लिए सर्दी, जुकाम या सिरदर्द का कारण भी बन सकता है।

जुकाम में –

सर्दी, खांसी, जुकाम, कफ या अस्थमा की स्थिति में दही का सेवन बिल्कुल भी न करें। ऐसे में अगर आप धी का सेवन करते हैं तो यह आपकी इन समस्याओं को और अधिक बढ़ा सकता है।

त्वचा रोग –

दही खट्टी होने के कारण कई सारे एलर्जिक रिएक्शन्स में त्वचा संबंधी किसी रोग का कारण बन सकती है| इसलिए अगर आप किसी त्वचा सम्बन्धित रोग से ग्रसित है तो डॉक्टर की सलाह लेने के बाद ही दही का सेवन करें| वरना यह एलर्जी को और बढ़ा सकता है।

मांसाहार –

मांसाहारी भोजन के साथ दही का सेवन करना बेहद हानिकारक है| धार्मिक नही बल्कि अद्ध्ययन के माध्यम से दही और मांस दोनों ही भारी होते है जिस कारण से कारण पाचन में समस्या हो सकती है और पेट भारी हो सकता है।

मधुमेह और पाइल्स –

डॉक्टर की सलाह के बिना मधुमेह यानि शुगर के मरीजों को दही का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इसके अलावा पाइल्स के मरीजों को भी भारी होने के कारण दही का सेवन करने से बचना चाहिए|