माइग्रेन जैसे गंभीर बीमारी में बहुत काम का है यह फल, जाने इसके इस्तेमाल का सही तरीका

हमारे सेहत के लिए सेब का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता हैं और यह बात भी आओ अच्छी तरह से जानते हैं लेकिन यदि सेब का अलग-अलग तरीके से सेवन किया जाए तो इसका दुगुना फायदा प्राप्त किया जा सकता हैं। आपने यह भी कई बार डॉक्टर से सुना होगा की रोज एक सेब खाने से इंसान हमेशा स्वास्थ्य रहता है और ये बात एकदम सही भी है। आपको बताते चलें की सेब के सेवन से माइग्रेन, खांसी, बुखार इत्यादि बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता हैं और आज हम आपको सेब के अलग-अलग तरीकों के सेवन के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे सही तरीके से करने पर आप तमाम तरह की परेशानियों से बहुत ही जल्दी छुटकारा पा सकते हैं।

माइग्रेन में करें सेब का प्रयोग

दरअसल माइग्रेन के रोगियों को उनके सिर में हमेशा दर्द रहता है और सेब का सेवन उनके लिए वरदान साबित हो सकता हैं। माइग्रेन में सेब का इस्तेमाल आप सुबह खाली पेट नियमित रूप से करे क्योंकि इस बीमारी में छुटकारा पाने के लिए आप सुबह एक सेब का सेवन जरूर करे। आपको बता दें कि यदि आप जहां रहते हैं वहाँ का वातावरण स्वच्छ रहता हैं तो आप सेब को काटकर चाँदनी रात में रख दे और सुबह उठकर उस सेब का सेवन करे, ऐसा करने से आपके माइग्रेन और सिर दर्द की समस्या शीघ्र ही दूर हो जाएगी।

खांसी में भी कर सकते हैं सेब का प्रयोग

खांसी आने पर हम डॉक्टर के पास जाते हैं और डॉक्टर आपको खांसी का सिरप देकर पीने को कहते हैं, दरअसल खांसी के सिरप को पीने से आपको बहुत नींद भी आती हैं लेकिन आप चाहते हैं कि आपका खांसी घरेलू उपचारों से ठीक हो जाए तो आप सेब का जूस निकाल ले और उसमें उचित मात्रा में मिश्री व काली मिर्च मिला लें और कुछ दिन तक इस जूस का सेवन करे। इसके सेवन से आपका खांसी बहुत जल्द ठीक हो जाएगा।

बुखार में भी सेब का प्रयोग है फायदेमंद

बुखार से छुटकारा पाने के लिए सेब के पत्ते और इसके पेड़ की छाल को लगभग 5 से 7 ग्राम की मात्रा में लेकर उबाल कर छान लें, अब इस पेय का सेवन करे क्योंकि इस पेय के सेवन से किसी भी तरह के बुखार व सर्दीजनित बीमारियों से तुरंत राहत मिल जाएगा। सर्दी के दिनों में 2-4 काली मिर्च और थोड़ी सी सौंठ मिलाकर इस्तेमाल करे।

पेट के विकारों में सेब का इस्तेमाल है बेहद फायदेमंद

पेट के समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए, कच्चे सेब जो पकने से पहले ही पेड़ से गिर जाते हैं उन्हें सुखाकर रख लें और करीब 5 ग्राम सूखे सेब व तने की छाल को 400 मिली पानी में उबालें और जब 100 मिली पानी बच जाए तो इसे छानकर रख लें। असल में बताया जाता है की इसके सेवन से संग्रहणी, अतिसार, मरोड़ व पेट से संबन्धित तमाम तरह के अन्य विकारों में तुरंत आराम मिलता हैं।

नेत्र विकारों के लिए करें सेब का सेवन

यदि आपके आंखों में किसी कारणवश सूजन हो गयी हैं या फिर लालिमा हो या संक्रमण हो तो आप कच्चे सेब को आग में भूनकर इसकी पुल्टिश बनाकर आंख पर रखे क्योंकि ऐसा करने से आपको लाभ मिलेगा।