कभी पूरे भारत पर राज करता था इस महिला का परिवार, आज एक छोटी सी झुग्गी में रह कर चाय बेचने को है मजबूर

इसमें कोई शक नहीं कि वक्त में इतनी ताकत होती है कि वह किसी भी इंसान को राजा से रंक बना सकता है. जी हां जो इंसान आज के समय में करोड़ो में खेल रहा हो, ये जरुरी नहीं कि उसका समय कल भी इतना ही अच्छा रहेगा. बरहलाल आज हम आपको एक ऐसी ही महिला के बारे में बताने जा रहे है, जिस पर वक्त की बहुत बुरी मार पड़ी है. यक़ीनन इस महिला की कहानी जान कर आप भी रो पड़ेंगे. बता दे कि एक समय वो भी था जब यह महिला भारत देश पर राज करती थी. मगर एक वक्त ये भी है जब यह महिला छोटी सी झुग्गी में रहती है. तो चलिए अब आपको बताते है कि आखिर इस महिला की ऐसी हालत कैसे हुई. वैसे आपको जान कर हैरानी होगी कि यह महिला मुगलो के परिवार से ताल्लुक रखती है. जी हां मुगलो का परिवार आज कल काफी गरीबी में जी रहा है.

इसके इलावा हम यहाँ जिस महिला की बात कर रहे है, वह मुगलो की ही छोटी बहु है. अब ये तो सब जानते ही है कि भारत के इतिहास के अनुसार हमारे देश पर मुगलो का राज हुआ करता था. यहाँ तक मुगल हमारे भारत की जनता पर काफी अत्याचार भी किया करते थे. मगर ऐसा लगता है कि अब समय के साथ साथ मुगलो की किस्मत भी बदल चुकी है. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि मुगलो की यह छोटी बहु चाय बेच कर ही अपना गुजारा करती है. दरअसल मुगलो ने अपने समय में जो महल और स्मारक बनवाएं थे, वो आज भी बिलकुल वैसे ही बने हुए है. मगर समय के साथ साथ उनकी अमीरी जरूर चली गई है. यानि अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो अब मुगलो के पास महल तो है, लेकिन आजीविका कमाने के लिए कोई बड़ा साधन नहीं है.

वही जिस महिला की हम बात कर रहे है, वास्तव में उसका नाम सुल्ताना बेगम है. बता दे कि सुल्ताना बेगम मुगल परिवार की सबसे छोटी बहु है. जी हां वह मुगलो के आखिरी शासक बहादुर शाह जफर के परपोते की पत्नी है. गौरतलब है कि सुल्ताना बेगम की हालत इतनी खराब हो चुकी है कि आज वो कोलकाता की झुग्गियों में रहने के लिए मजबूर है. यहाँ तक कि उन्हें अपना परिवार चलाने के लिए चाय तक बेचनी पड़ रही है. यानि कल तक जो परिवार गरीबो को हुक्म दिया करता था. आज उस घर की बहु खुद लोगो को चाय पिलाने का काम करती है. हालांकि यहाँ हैरानी की बात ये है कि जिस परिवार के पूर्वजो की देन को देखने के लिए लोग विदेशो से आते है. उसी परिवार की बहु झुग्गियों में रहती है.

दरअसल सुल्ताना के पति प्रिंस मिर्जा मोहम्मद बेदार बख्त बहादुर को साल 1980 तक सरकार द्वारा पेंशन दी जाती थी. बता दे कि उन्हें केवल चार सौ रूपये महीना ही पेंशन मिलती थी. जिसमे घर का गुजारा करना काफी मुश्किल था. हालांकि यह पेंशन साल 2010 तक करीब छह हजार हो गई थी. बरहलाल सुल्ताना बेगम अपनी तरफ से सरकार को कई बार खत भी लिख चुकी है. मगर हमारी सरकार की तरफ सुल्ताना को अब तक कोई संतुष्टिजनक जवाब नहीं मिल पाया है. वही कुछ लोगो का कहना है कि सरकार ने उन्हें घर और पचास हजार रूपये भी दिए थे. मगर उनके घर पर कुछ लोगो ने कब्जा कर लिया था. जिसके कारण वह सड़क पर आ गए.

इसके बाद उन्होंने एक चाय की दुकान खोली और मजबूर हो कर चाय बेचने का काम शुरू कर दिया. मगर यह दुकान भी बाद में बंद हो गई. जिसके बाद अब वह छोटी सी झुग्गी में रहने के लिए मजबूर हो चुके है.