चावल में ये ख़ास चीज मिलाकर लगाए शिवजी को भोग, पुरे परिवार की किस्मत एक साथ चमकेगी

दोस्तों हिन्दू धर्म में सभी भगवानो को प्रसन्न करने के लिए कई सारे रीती रिवाजों का वर्णन किया गया हैं. उदहारण के लिए नारियल चढ़ाना, अगरबत्ती लगाना, दीपक लगाना, आरती करना इत्यादि. इसी में एक चीज भी सबसे अधिक प्रसिद्द हैं और वो भगवान को भोग यानी की प्रसादी चढ़ाना. हर भगवान को अलग अलग मौको पर अलग अलग चीजों की प्रसादी चढ़ाई जाती हैं. वैसे मंदिर में चढ़ाई जाने वाले प्रसादी और घर में चढ़ाई जाने वाली प्रसादी में भी काफी अंतर होता हैं.

कई घरों में जब खाना बनता हैं तो पहला भोग भगवान को लगाया जाता हैं और उसके बाद ही घर के बाकी सदस्य भोजन ग्रहण करते हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे हैं जिसे करने से ना सिर्फ आपकी बल्कि आपके पुरे परिवार की किस्मत खुल जाएगी. आप सभी जानते हैं कि लाइफ में अच्छे भाग्य का होना कितना जरूरी होता हैं. भाग्य अच्छा हो तो सारे काम समय पर और जल्दी पुरे होते हैं वरना हम सालों तक कितना भी प्रयास कर ले बुरे भाग्य की वजह से वो पूरा नहीं होता हैं. आपके भाग्य को चमकाने में शिवजी आपकी सहायता कर सकते हैं. बस इसके लिए आपको सोमवार के दिन एक ख़ास उपाय करना होगा जी हम आपको बताने जा रहे हैं.

सोमवार के दिन आपको शिवजी को चावल की प्रसादी चढ़ाना होगी. लेकिन ये चावल कोई आम चावल नहीं होंगे. बल्कि इसमें आपको कुछ ख़ास सामग्री मिलानी होगी. तभी ये प्रसादी पवित्र और उत्तम बन पाएगी. तो चलिए जानते हैं आपको ये ख़ास चावल कैसे तैयार करने होंगे.

इस चावल को बनाने के लिए आप कुकर, पेन या तपेली का इस्तेमाल कर सकते हैं. सबसे पहले तपेली में आवश्यकतानुसार चावल और पानी डाले. अब इसमें थोड़ी सी हल्दी, पीसा गुड़, तुलसी के पत्ते, चारोली के दाने, केसर, लौंग और घी डाल दे. इसके बाद इसे पकने के लिए छोड़ दे. जब चावल पक कर तैयार हो जाए तो इसे एक प्लेट में निकाल ले. अब इसे शिवजी के सामने रख दे. इसके बाद दो अगरबत्ती लगाए और घंटी के साथ घुमाते हुए अपने भाग्य को प्रबल करने की मनोकामना करे.

भगवान को चढ़ाई गई इस ख़ास प्रसादी को घर का कोई भी सदस्य तब तक ग्रहण ना करे जब तक कि आप इसे पहले गाय को ना खिला दे. जी हाँ दोस्तों आपको इस प्रसादी को शिवजी को चढ़ाने के बाद गाय को खिलानी हैं. इसके लिए आप एक लाल, सफ़ेद या भूरे रंग की गाय ढूंढे. काली गाय नहीं चलेगी. आपको गाय को ये प्रसादी खिलाना हैं और फिर उसके हाथ जोड़ आशीर्वाद लेना हैं. जब गाय ये पूरी प्रसादी खा ले उसके बाद घर के बाकी सदस्य भी इसे ग्रहण कर सकते हैं. इस बात का ध्यान रहे कि आपके घर में जितने भी सदस्य हैं वे सभी इसे जरूर खाए. तभी इसका सम्पूर्ण लाभ पुरे परिवार को मिलेगा. इस उपाय को आप महीने में एक बार किसी भी सोमवार कर सकते हैं. आपको कुछ ही दिनों में इसका फल देखने को मिल जाएगा.