75 साल की उम्र में अपनी मर्दानगी बढ़ाने के लिए आशाराम लेता था ये दवाई, आ जाता था 16 साल वाला जोश

नाबालिक लड़कियों से बलात्कार के आरोप में उम्रकैद की सजा पा चुके खुद को इन्श्वर स्वरुप मानने वाले आशाराम की पोल अब पुरी दुनिया के सामने खुल चुकी है. धर्म और आस्था के नाम पर नाबालिक बच्चियों को अपने हवस का शिकार बनाने वाला ये पाखंडी बाबा देश के लिए किसी आतंकवादी से कम नहीं है. लोगों को धर्म और आस्था के नामा पर लूटने वाला आशाराम को जोधपुर कोर्ट ने उसके किये की सजा दे दी है. बता दें की आशाराम को अदालत ने नाबालिक से रेप के जुर्म में उम्रकैद की सजा सुनाई है. लेकिन एक बात थी जो की सबकी परेशान कर रही थी और वो ये थी की 75 साल की उम्र में आशाराम आखिर कैसे रेप कर पाता था क्यूंकि इतनी ज्यादा उम्र हों एके बाद अमूमन लोग समलैंगिग प्रक्रिया नही कर पाते हैं. आज हम आपको बताने जा रहे हैं की आशाराम अपनी मर्दानगी बढ़ाने के लिए किस दावा का इस्तेमाल करता था.

जिस उम्र में लोग ईश्वर का नाम लेकर जीवन भर अपने किये अछे बुरे कामों को याद करते हैं उस उम्र में आशाराम ने ऐसा पाखंड फैलाया है की हिन्दुस्तान के लोगों का विश्वास बाबाओं और धर्म पर से धीरे धीरे उठता जा रहा है. आपको जानकर हैरानी होगी की आशाराम जिस दावा का सेवन अपनी मर्दानगी बढ़ाने के लिए करता था वो सफ़ेद मुसली है जी हाँ आशाराम का पर्दाफाश होने के बाद इस सफ़ेद मुस्ली की मांग इनदिनों बाजार में कुछ ज्यादा ही बढ़ गयी हैं. ये वही आयुर्वेदिक औषिधि है जिसका सेवन आशाराम करता था और उसके आश्रम में ये एक दावा हमेशा उपलब्ध रहता था.

आपको बता दें की आशाराम के इस राज का खुलासा उसेक ट्रायल के हौरान जोधपुर कोर्ट में आशाराम के आश्रम की एक सेविका ने किया. इस बयान को सुनने के बाद कोर्टरूम में मौजूद जज के साथ साथ मेडिकल टीम के लोग भी हैरान थे जो वर्षों से इस दिशा में रिसर्च कर रहे थे लेकिन अभी तक उन्हें इस दिशा में कोई पुख्ता सबूत नहीं मिल पाया था. आपको बता दें की मुसली दो प्रकार की होती है कलाई मुसली और सफ़ेद मुसली, आशाराम अपनी मर्दानगी बढ़ाने के लिए किस मुसली का प्रयोग करता था वो सफ़ेद मुसली थी.

बता दें की पुरुषों के लिए सफ़ेद मुसली किसी वरदान से कम नहीं है. सफ़ेद मुसली में शुक्राणु की वृद्धि करने और यौन शक्ति बढ़ाने जैसे गुण पाए जाते हैं जो की पुरुषों को सम्भोग के समय एक विशेष प्रकार की शक्ति भी प्रदान करती है. आपको बता दें की मुसली का प्रयोग मेडिकल साइंस कई प्रकार के दवा बनाने के लिए भी करती है क्यंकि इसमें और भी कई आयुर्वेदिक गुण पाए जाते हैं जो की अन्य कई प्रकार की बीमारियों को दूर करने में भी सहायक होती है. आपको जानकर हैरानी होगी की सफ़ेद मुसली का इस्तेमाल पुरुषों के साथ साथ महिलाओं के लिए भी काफी लाभदायक है. इसमें शिलाजीत और अन्य प्रकार के यौन बीमारियों को दूर करने के गुण भी मौजूद होते हैं. तो ये था 75 वर्षीय आशाराम के हवस मिटने की दवा.