पहली बार किसी रोबोट को मिली नागरिकता, इस मुल्क ने किया ने काम । आप भी जानें

इन दिनों एक रोबोट काफी चर्चा में है और उस रोबोट का नाम है सोफिया। इंसानों जैसी शक्ल वाली रोबोट सोफिया को सऊदी अरब की नागरिकता मिल गई है। सऊदी अरब इंसानों की तरह रोबोट्स को नागरिकता देने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है। इस तरह धातु के टुकड़ों और तारों से बनी सोफ़िया पहली इंसानी मशीन बन गई है,  जिसे किसी देश ने अपनी नागरिकता दी है।

सऊदी अरब की राजधानी रियाद में फ्यूचर इनवेस्टमेंट इनीशिएटिव के स्टेज पर सोफिया को नागरिकता दी गई । सऊदी अमरीकी पब्लिक रिलेशन अफेयर्स कमिटी ने अपने आधिकारिक ट्विटर पर इसकी घोषणा की । कमिटी ने लिखा, “रोबोट सोफ़िया दुनिया की पहली रोबोट है जिसे सऊदी नागरिकता मिली है।” सोफिया रोबोट के दिमाग को हैन्सन रोबोटिक्स में लीड एआई डेवलपर डेविड हेन्सन ने तैयार किया है। हैनसन हांगकांग की हैनसन रोबोटिक्स का फाउंडर हैं. हैनसन रोबोटिक्स इंसानों की तरह दिखने और काम करने वाले रोबोट तैयार करने के लिए जानी जाती है।  सोफिया को हॉलीवुड अभिनेत्री आड्री हेपबर्न की तरह दिखने वाला बनाया गया है।

आपको बता दें कि आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस को बढ़ावा देने के लिए सऊदी अरब ने रोबोट को नागरिकता दी है। हेसन रोबोटिक्स द्वारा बनाए गए इस रोबोट की सबसे खास बात यह है कि यह आपके दैनिक कामों के अलावा सवालों के जवाब भी देता है।  प्रेजेंटेशन के दौरान सोफिया ने आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस रोबोट्स के इंसानों के वजूद के लिए खतरा बनने से जुड़ी चिंताओं पर भी बात की। अपने प्रेजेंटेशन के दौरान सोफिया ने दर्शकों से कहा, ‘इस विशेष सम्मान को पाकर मैं बहुत गौरवान्वित महसूस कर रही हूं। दुनिया में पहली बार किसी रोबोट को नागरिकता से पहचाना जाना ऐतिहासिक है।’ सोफिया ने मीडिया की ओर से पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए सोफिया ने एलन मस्क पर चुटकी भी ली… और कहा कि ‘आप एलन मस्क को काफी ज्यादा पढ़ रहे हैं। साथ ही बहुत ज्यादा हॉलीवुड की फिल्में देख रहे हैं। आप चिंता न करें, अगर आप मेरे साथ सही बर्ताव करते हैं तो मेरा व्यवहार भी आपके साथ सही रहेगा। आप मेरे साथ एक स्मार्ट इनपुट आउटपुट सिस्टम की तरह बर्ताव करें।’

इस बारे में बिजनेस रायटर एंड्रू रॉस सोर्किन ने बताया कि, “जब रोबोटिक्स इंटेलिजेंस की बात होती है तो ब्लेड रनर और टर्मिनेटर जैसी फिल्मों के रोबोट्स लोगों के दिलों-दिमाग में आते हैं पर असल में ऐसा नहीं है। आने वाले समय में फ्यूचर इनवेस्टमेंट के तौर पर रोबोट्स को देखा जाएगा और ये लोगों के जीवन में बड़े बदलाव लायेंगे।” हैनसन रोबोटिक्स की ये रोबोट सोफिया ने रियाद में हो रहे फ्यूचर इंनवेस्टमेंट नाम के एक सम्मेलन में स्पीकर के तौर पर हिस्सा लिया । इस सम्मेलन में देश में आधुनिकीकरण के लिए निवेश बढ़ाने पर चर्चा हुई।

हालांकि, रोबोट को नागरिकता देने पर लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रिया आई। कुछ लोगों का कहना है कि, “सऊदी में महिलाओं को खुला जीवन जीने का अधिकार नहीं है, लेकिन एक महिला रोबोट को नागरिकता दे दी है। “वहीं, ट्विटर पर भी रोबोट का जमकर मजाक भी उड़ाया गया। कुछ ने तो यह तक कमेंट किया कि, “बिना बुर्के के महिला रोबोट कैसे सऊदी की सड़कों पर घूमेगी. बुर्के वाली रोबोट को देखना मजेदार होगा।”